एल्लोरा की गुफाओं का रोचक इतिहास जानिए | Ellora caves history in hindi

Ellora caves यानि के एल्लोरा की गुफाओं के बारे में हम बात करें इस से पहले आपको बता दें की अजंता की गुफाओं के बारे में हम पिछली पोस्ट में बात कर चुके है और आप चाहें तो उसे भी पढ़ सकते है क्योंकि दोनों तरह की लोकेशन में वैसे तो 100 किलोमीटर का फासला है लेकिन दोनों समकालीन धरोहर है तो चलिए Ellora caves history के बारे में थोड़ी और बात करते है और कुछ अहम् जानकारियां प्राप्त करते है –


एल्लोरा की गुफाओं का रोचक इतिहास जानिए

Ellora caves history in hindi

एल्लोरा की गुफाओं में भी अजंता की तरह भारत के चट्टान से निर्मित कुछ बेहद खूबसूरत , ऐतिहासिक और मठ मंदिरों के समूह में से एक है | यह महाराष्ट्र में स्थित ऐसी कुछ ऐतिहासिक जगहों में से एक है जिसे यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल घोषित किया हुआ है | यह 600-1000 CE के समय काल की है और उसी समय के बौद्ध धर्म , हिन्दू और जैन धर्म के बारे में बहुत कुछ कहती है इसमें हिंदू , जैन और बौद्ध धर्म से जुडी बहुत सी कलाकृतियां है | यंहा उपस्थित गुफाओं में 16 वी गुफा कुछ खास है क्योंकि यह एक तरह से सबसे बड़ी उस तरह की गुफा है विश्व की जिसमे एक ही पत्थर को काट कर बनाया गया हो | यंहा ऐसा बहुत कुछ है जो ऐतिहासिक और धार्मिक नजरिये से खास है जैसे कि शिव और कैलाश मंदिर को समर्पित स्मारक जो रथ के आकार का है | ellora caves के पूरा समूह में 100 गुफाये है जिसमे से 34 ऐसी है जन्हा जनता विजिट कर सकती है यानि के आम लोग जा सकते है | इन गुफाओ को आकार देने के लिए चारानंद्री पहाड़ियों में ऊर्ध्वाधर बेसाल्ट चट्टान की खुदाई की गयी है | इसमें 12 बौद्ध गुफाएं , 17 हिन्दू धर्म से जुड़े ऐतिहासिक तथ्य और 5 गुफाएं जैन धर्म के बारे में बताती है | हर गुफाओं का समूह जो है वो उनके देवताओं को प्रदशित करता है |


Ellora caves के एक साथ पाए जाने का कारण भी समझ में आता है और जानकर इस बारे में कहते है कि Ellora caves जो है वो उस समय के धार्मिक सद्भाव को प्रदर्शित करती है | ऐसा माना जाता है कि हिन्दू वंशो ने हिन्दू स्मारकों का निर्माण किया और राष्ट्रकूट वंश ने कुछ हिन्दू और कुछ बौद्ध स्मारकों का निर्माण किया और यादव वंश ने के समूहों द्वारा जैन स्मारकों का निर्माण किया गया |  Ellora caves के इतिहास में थोडा गहनता से देखा जाये तो समझा जा सकता है कि प्राचीन समय में एलोरा दक्षिण एशिया के प्राचीन मार्ग पर स्थित डेक्कन क्षेत्र  व्यापारिक दृष्टि से एक महत्वपूर्ण क्षेत्र था | एल्लोरा की गुफाओं का महत्व इस बात से देखा जा सकता है कि सालों तक ये भिक्षुओं, प्रार्थनाओं के मंदिरों और तीर्थयात्रियों के आराम के लिए एक जगह के लिए मठों के रूप में जानी जाती रही थी |


अब यह चूँकि भारत सरकार के पुरातत्व विभाग की देख रेख में है और इसे देखने के लिए देश और विदेशों से बहुत से इतिहास प्रेमी आते है | महाराष्ट्र में स्थित यह गुफाएं औरंगाबाद शहर के 29 किलोमीटर (18 मील) उत्तर-पश्चिम और मुंबई से 300 किलोमीटर (190 मील) की दूरी पर है | इस से कुछ ही दूरी पर यानि के 100 किलोमीटर की दूरी पर ही ajanta caves है जो इसके समकालीन ही है और इन दोनों जगहों की भूमिका भारतीय पर्यटन में बहुत अधिक है |


तो ये है Ellora caves history in hindi और इस बारे में अधिक जानकारी या सलाह के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है और हमसे hindi history updates पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर फॉलो कर सकते है या फिर नीचे दिए गये घंटे के निशान पर भी क्लिक कर सकते है |

*

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने