युद्ध के बाद बने साउथ कोरिया का इतिहास जानिये | South korea history in hindi

South Korea के कोरिया के बारे में बात करें तो हमने हमारी पिछली पोस्ट में North korea history के बारे में बात की और कोरियन वार के बारे में भी जिसकी वजह से दोनों देश कोरियाई प्रायदीप से अलग अलग बने थे | उस पोस्ट में हमने केवल उतर कोरिया के बारे में फोकस किया था जबकि अब हम south korea history के बारे में अलग से बात करेंगे तो चलिए जानते है साउथ कोरिया का इतिहास और रोचक और ज्ञानवर्धक बातें –


South korea history in Hindi

South korea बनने से पहले कोरियाई युद्ध के बाद से कोरिया के south वाले हिस्से पर अमेरिकी सेना का कब्जा था क्योंकि जापान द्वितीय विश्वयुद्ध हार गया था जिसकी वजह से north वाले हिस्से पर रूस का और south में अमेरिकी सेना का कब्जा था | आपको बता कि इस से पहले जापान ने करीब 1910 से लेकर 35 साल तक कोरिया प्रायद्वीप पर शासन किया है |  इसी वजह से 1948 दो अलग अलग देश बने जो उत्तरी कोरिया और दक्षिणी कोरिया थे लेकिन जल्दी ही  1950 में दोनों देश की सरकारों  के बीच में युद्ध शुरू हो गया जो विभाजन और जमीन को लेकर था | उस कोरियाई युद्ध में कम से कम 25 लाख लोग मारे गये थे जो south korea history के लिए एक दुखद बात है और 1953 में यह युद्ध इस शर्त के साथ ख़त्म हो गया कि दोनों देशों के बीच करीब 2.5 मील का एक ऐसा जोन होगा जिसमे दोनों देशो के सैनिक नहीं होंगे | तब से लेकर आज तक दोनों देशों के बीच में तनाव आज भी वैसे ही जारी है | हालाँकि नार्थ कोरिया में अभी तक राजतन्त्र कायम है और वही एक परिवार के वंशज आज भी शासन कर रहे है |


जबकि south korea में ऐसा नहीं है चूँकि युद्ध खत्म होने के बाद शुरू में south korea में भी लोकतंत्र नहीं था और 1961 में Chung-hee नाम के मिलिट्री जनरल थे जिन्हें 1979 में मार दिया गया और 1986 में संविधान में बदलाव हुआ जिसमे जनता को सीधे election के जरिये अपने राष्ट्रपति को चुनने की आजादी मिली | इसके बाद south korea में तेजी से बदलाव आना शुरू हो गया और देश जल्दी ही north korea की अर्थव्यवस्था को पीछे छोड़कर तेजी से उभरती हुई अर्थव्यवस्था बन गया | 1981 में बने राष्ट्रपति को इंटरनेशनल प्रेशर और विरोध के चलते इस्तीफा देना पड़ा और उनकी जगह General Roh Tae-woo ने पद को संभाला और उन्होंने राजनितिक स्वतंत्रता को बढ़ावा दिया और भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम चलाई जिसके बाद 1988 में आम चुनाव हुए | 1991 में north korea और south korea दोनों ने UN को ज्वाइन कर लिया | 1993 में Kim Young Sam राष्ट्रपति बने |


और हाल ही में Moon Jae-in president बने है जो north korea के साथ बातचीत के द्वारा तनाव खत्म करना चाहते है और उन्होंने बेहतर रिश्तों के लिए वकालत की है लेकिन उत्तरी कोरिया के द्वारा लगातार किये जा रहे परमाणु परीक्षणों के चलते लगता नहीं है कि जल्दी ही यह सम्भव हो पाएगा |


तो ये है  South korea history in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है और हमे history hindi updates पाने के लिए फेसबुक पर हमे लाइक कर सकते है या फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन भी ले सकते है |

*

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने